आशुफ़तगी ने नक़्श-ए-सुवैदा किया दुरसत

This post is also available in: English Urdu ગુજરાતી

आशुफ़तगीने नक़्शसुवैदा किया दुरसत
ज़ाहिर  हुआ  के  दाग़का  सरमाया  दूद  था
आशुफ़तगी = परेशानी  नक़्श= print, carving   सुवैदा= काला  नक़्श-ए- सुवैदा= दिल पर एक काला तिल रहता है   सुवैदा किया दरुस्त = कालेपन को मिटा दिया  सरमाया=पूंजी    दूद = धुआँ

तशरीह:
ये शेअर समझने के लिए एक रिवायत का जानना ज़रूरी है । रसूल मुहम्मद (स.अ.) जब तीन या चार साल के थे, उनकी दाया हलीमा जो मुहम्मद (स.अ.) के को दूध पिलाती थी और परवरिश करती थी, उसका बेटा हज़रत मुहम्मद (स.अ.) से बाहर खेल रहा था। इस वक़्त दो फ़रशते आए और धीरे से रसूल(स.अ.) को उथाया और उनका सीना मुबारक खोला, दिल निकाला, एक प्लेट में रखा, और इस को धो कर इस पर मौजूद काला दाग़ मिटा दिया । हलीमा का बेटा गभरा कर भागा और जाकर अपनी मां को वाक़िआ ब्यान किया। हलीमा ने सोचा के कोई ख़बीस रूह होगी और वोह हज़रत मुहम्मद को इन की मां हज़रत आमेना के पास ले गई और माजरा बताया। हज़रत आमना ने कहा फ़िक्र की कोई बात नहीं। मेरा बेटा एक आला मुक़ाम हासिल करने वाला है। उल्मा कहते हैं के कुरआन की आयत अलम नशराह लका सदरक़ (Have We not expanded thee thy breast?) इस वाक़िये की तरफ़ इशारा करती है। दूसरा ये कि जब कोयला जलता है तो इस में से काला धुआँ निकलने के बाद सफ़ैद राख रह जाती है । मतलब ये हुआ के कोइला दर अस्ल सफ़ैद था लेकिन जो धुआँ इस में भरा था था इस ने कोइले को काला बना दिया था। इस शेअर में ग़ालिब कहना चाहता है इन्सान अपने दिल पर काला दाग़ लेकर पैदा होता है और ये इन्सान को ग़लत रास्ता पर ले जाता है मेरे दिल पर जो काला दाग़ था वो बुरे ख़्यालात और बुरी चीजों से भरा था। लेकिन जैसे जैसे मुझ पर मुसीबतें आती गईं मेरे दिल का काला दाग़ या नक़्श-ए-सुवैदा मिटता गया। । आशुफ़तगी की तपिश ने उसे जला डाला और दरुस्त कर दिया और में पाक हो गया। यानी इन्सान को ग़म और मुसीबतों से भागना नहीं चाहिए बल्कि इस का इस्तक़बाल करना चाहीए ताकि काला तिल या नक़्श-ए-सुवैदा मिट जाए। शायद ग़ालिब ये कहना चाहता हो रसूल मुहम्मद (स.अ.) का काला तिल दूर करने में फ़रिश्तों की मदद मिली, लेकिन अपनी कोशिशों के ज़रीये हम भी इस से निजात पा सकते हैं। ज़िंदगी की मुसीबतों और ग़मों को देखने का ये एक ख़ूबसूरत तरीक़ा है

Please click for video: Naqsh fariyaadi hai kis ki; Voice: Talat Mahmood   music: Khaiyyam

http://www.youtube.com/watch?v=sNqiSkcbCAQ

This post is also available in: English Urdu ગુજરાતી